इरफान खान के निधन से भावुक हुईं एकता कपूर, बोलीं- आत्माएं कभी नहीं मरती है।

इरफान खान के निधन से भावुक हुईं एकता कपूर, बोलीं- आत्माएं कभी नहीं मरती है।

इरफान खान के निधन से भावुक हुईं एकता कपूर, बोलीं- आत्माएं कभी नहीं मरती है।

अपने अलग अंदाज से सिनेमाजगत में राज करने वाले इरफान खान (Irrfan Khan) ने दुनिया को अलविदा कह दिया है। इरफान के यूं चले जाने से हर कोई गमगीन हैं। सोशल मीडिया पर आम हो या खास हर कोई उनके जाने पर अपनी भावनाएं व्यक्त कर रहा है। इरफान के निधन पर टीवी की क्वीन कही जाने वाली एकता कपूर (Ekta Kapoor) ने भी इरफान को नम आंखों से श्रद्धांजलि दी। 

एकता कपूर ने इरफान खान की फिल्म 'लाइफ ऑफ पाई' का एक वीडियो शेयर किया है जिसमें अभिनेता जिंदगी से जुड़ा डायलॉग बोलते नजर आ रहे हैं। इस वीडियो को शेयर करते हुए एकता ने लिखा- 'आत्माएं कभी नहीं मरती और ना ही लीजेंड्स। आपकी आत्मा को शांति मिले सर।' 

एकता कपूर का ये पोस्ट काफी वायरल हो रहा है। ऐसा इसलिए शायद क्योंकि उनका ये पोस्ट जिंदगी की सच्चाई को बता रहा है। साथ ही कई लोगों की भावनाओं को भी व्यक्त कर रहा है। इरफान खान ने अपने करियर की शुरुआत टेलीविजन से ही की थी जिसके बाद उन्होंने सिनेमाजगत का रुख किया। 

इरफान ने साल 1991 में दूरदर्शन के मशहूर सीरियल 'चाणक्य' में काम किया था। इस सीरियल में उन्होंने सेनापति भद्रशाल का किरदार निभाया था जिसको दर्शकों ने खूब सराहा। इसके बाद इरफान ने 'भारत एक खोज', 'सारा जहां हमारा', 'बनेगी अपनी बात', 'चंद्रकांता' और 'श्रीकांत' जैसे कई सीरियल्स में अपने अभिनय से दर्शकों के दिलों को जीता।

फिल्मों की शुरुआत उन्होंने साल 1988 में फिल्म 'सलाम बॉम्बे' से की थी। इस फिल्म में उनके किरदार का नाम लिटिल राइटर था। इसके बाद उन्होंने 'कमला की मौत', 'एक डॉक्टर की मौत' और 'पिता' सहित कई फिल्मों में काम किया था, लेकिन तमाम टीवी सीरियल्स और फिल्मों के बाद उन्हें असली पहचान साल 2003 में फिल्म 'हासिल' से मिली थी।