ट्विटर पर ट्रेंड हुआ अवार्ड फॉर रामायण, 'राम' बने अरुण गोविल बोले- 'अवॉर्ड पाने की आकांक्षा..'

ट्विटर पर ट्रेंड हुआ अवार्ड फॉर रामायण, 'राम' बने अरुण गोविल बोले- 'अवॉर्ड पाने की आकांक्षा..'

ट्विटर पर ट्रेंड हुआ अवार्ड फॉर रामायण, 'राम' बने अरुण गोविल बोले- 'अवॉर्ड पाने की आकांक्षा..'

याद दिला दें कि हाल ही में अरुण गोविल ने ट्विटर पर कुछ सवालों के जवाब दिए थे। ऐसे में एक सवाल अवॉर्ड से भी जुड़ा था। सवाल में पूछा था कि, 'आपका योगदान अभिनय जगत में कमाल है, खासकर रामायण में, लेकिन आपको रामायण के लिए भी किसी पुरस्कार से सम्मानित नहीं किया गया...?'।' 

इस सवाल का जवाब देते हुए अरुण गोविल ने कहा था, 'चाहे कोई राज्य सरकार हो या केंद्र सरकार, मुझे आज तक किसी सरकार ने कोई सम्मान नहीं दिया है। मैं उत्तर प्रदेश से हूं, लेकिन उस सरकार ने भी मुझे आज तक कोई सम्मान नहीं दिया और यहां तक कि मैं पचास साल से मुंबई में हूं, लेकिन महाराष्ट्र की सरकार ने भी कोई सम्मान नहीं दिया।'

अरुण गोविल के इस बयान के बाद से ही सोशल मीडिया पर #AwardForRamayan ट्रेंड करने लगा। इसके बाद एक ट्वीट करते हुए अरुण गोविल ने लिखा, 'मेरा मंतव्य, प्रश्न का उत्तर देना था। कोई अवॉर्ड पाने की आकांक्षा नहीं थी। हालांकि राजकीय सम्मान का अपना अस्तित्व होता है पर दर्शकों के प्यार से बड़ा कोई अवॉर्ड नहीं होता जो मुझे भरपूर मिला है। आप सभी के असीम प्रेम के लिए सप्रेम धन्यवाद।'

गौरतलब है कि लॉकडाउन के चलते पुन: रामायण  का प्रसारण दूरदर्शन पर किया जा रहा है। ऐसे में एक बार फिर इस कार्यक्रम को दर्शकों का असीम प्यार मिल रहा है। न सिर्फ सोशल मीडिया पर हर दिन रामायण को लेकर पोस्ट देखने को मिलते हैं बल्कि साथ ही साथ टीआरपी में भी दूरदर्शन और रामायण का जलवा देखने को मिल रहा है। ऐसे कहना बिलकुल भी गलत नहीं होगा कि पुराने कार्यक्रमों के साथ ही दूरदर्शन का स्वर्णिम दौर भी लौट आया है।